Wednesday, 7 October 2009

अजनबी - 2

नहीं ये मेरा शिकवा नहीं है
नहीं ये मेरा गिला नहीं है
दरअसल अपने में ही
अजनबीयत के सिवा
मुझे कुछ मिला नहीं है।

मैं एक तिनके सा
नदी की धार में बह रहा हूँ
नदी से
खुद से ही
अजनबी

मैंने लोगों से सुना है
आदमीयत की पैदाइश से ही
हमेशा ऐसा ही रहा है
कि कुछ भला है
कुछ बुरा है

ये सबसे आसान बात है
कि किसी चीज को
दो टुकड़ों में काट दो
हमारी नजर
दो आंखों
दो टुकड़ों में बंटी है
सबसे सुविधाजनक है
हर चीज दो टुकड़ों में बांट दो
और अनुप्रस्थ काट में ढूंढते रहो
उस चीज की पहचान

पर आसान तरकीबें
मुश्किल सवालों का हल नहीं होती
न इसका कि
मैं खुद से अजनबी क्यों हूँ