Saturday, 27 March 2010

इच्छाओं की बन्द जेल में


जब भी चला तेरी याद का मौसम, भरी दोपहरी रात हुई
मयखाने की गलियां जागीं, दुनियां के गम की बात हुई

आंखों से खामोशी बोली, आहटों ने अचरजता घोली
इच्छाओं की बन्द जेल में, कई सलाखें डर के डोलीं

सपनों के रैन बसेरे छूटे, सूर्य किरनों में भ्रम सब छूटे
देह रसायनों के भाटे पर, प्रेम की फेन ने जीवन लूटे

पूनम की रात के भेद रहे, हमने तेरे स्मृति चिन्ह सहे
आशा के सारे भवन-महल, बालू की भीत से गिरे ढहे

Saturday, 20 March 2010

जे. कृष्णमूर्ति जी का परि‍चय


जे. कृष्णमूर्ति जी के संक्षि‍प्‍त परि‍चय के लि‍ये क्‍ि‍लक करें-
http://jkrishnamurthyhindi.blogspot.com/

Thursday, 18 March 2010

कल, आज और कल - 1

रामकुमार कृषक

कवि‍ता

न छल होता न प्रपंच
न स्वार्थ होता न मंच
न चादर होती न दाग़
न फूस होता न आग
न प्राण होते न प्रण
न देह होती न व्रण
न दुष्ट होते न नेक
न अलग होते न एक
न शहर होते न गाँव
न धूप होती न छाँव
अगर हम जानवर होते

===================

रघुवीर सहाय
 

अतुकांत चंद्रकांत


चंद्रकांत बावन में प्रेम में डूबा था
सत्तावन में चुनाव उसको अजूबा था
बासठ में चिंतित उपदेश से ऊबा था
सरसठ में लोहिया था और ... क्यूबा था
फिर जब बहत्तर में वोट पड़ा तो यह मुल्क नहीं था
हर जगह एक सूबेदार था हर जगह सूबा था

अब बचा महबूबा पर "महबूबा था" कैसे लिखूँ?


==============================

आदरणीय कवि‍वर
सूर्यकांत त्रि‍पाठी "नि‍राला"

अट नहीं रही है
आभा फागुन की तन
सट नहीं रही है।

कहीं साँस लेते हो,
घर-घर भर देते हो,
उड़ने को नभ में तुम
पर-पर कर देते हो,
आँख हटाता हूँ तो
हट नहीं रही है।

पत्‍तों से लदी डाल
कहीं हरी, कहीं लाल,
कहीं पड़ी है उर में,
मंद - गंध-पुष्‍प माल,
पाट-पाट शोभा-श्री
पट नहीं रही है।


राजेशा 

"कट रही है"

बालों में सफेदी छंट रही है
उम्र बीत रही है, घट रही है

अब वो जुल्‍फें भी नहीं घनी काली
जो सपनों में उलझी लट रही है

पहले तो चुप चुप रहती थी पत्‍नी
अब मुकाबले में डट रही है

कभी तो सोचते थे होगी जि‍न्‍दगी
अब ये कहते हैं सबसे "कट रही है"

बचपन तक रही एक ही आयु की रस्‍म
गुजर चली जब - हि‍स्‍सों में बंट रही है

नीदें भी साथ छोड़ चली हैं अब
कभी जो मेरी चिन्‍ताओं का तट रही हैं

आंखों में धुंधलके आते जाते हैं
पर भ्रमों की परछाईयां हट रही हैं

Friday, 12 March 2010

तेरे जाने के बाद

तेरे जाने के बाद कोई सावन नहीं आया
ना उन गलियों में, ना मेरे दिल की बस्ती में

तेरे जाने के बाद, सागर के किनारे शोर करते रहे
कितने मंजर तरते रहे, यादों की कश्ती में

तेरे जाने के बाद, बारहा ये सवाल आया
बारहा मलाल आया, क्या कम है मेरी हस्ती में

तेरे जाने के बाद, मैं भी कितना अपना रहा
बन के इक सपना रहा, किसी साये की सरपरस्ती में

तेरे जाने के बाद, सारी राहें खो गई हैं
तमन्ना रोती-मुस्कुराती हैं, दीवानावर मस्ती में

तेरे जाने के बाद कोई सावन नहीं आया
ना उन गलियों में, ना मेरे दिल की बस्ती में

Wednesday, 3 March 2010

तुमसे बातचीत


मैंने तो खूब चाहा था
कि आज रात...
चांद से बोल-चाल बंद रखूं।

पर, तुमने आज भी चेहरा छिपा रखा था
बेजुबान शब्दों की खामोशी में।

मेरे जलते हुए सीने में
सूरज रोज डूबता है।

और हर रात मैं -
सुबह तक चांद से बातें करता हूं।
कि, कभी तो तुम्हारा चेहरा समझ आयेगा
और उसके कहे हुए,
अबोले शब्द भी।