Wednesday, 4 May 2011

चाह

मैथ्‍यु अर्नाल्‍ड की कवि‍ता

चाह 


मेरे सपनों में
मेरे पास आओ
और फिर
मैं एक दिन
फिर से अच्छा हो जाऊंगा।

वो रातें उससे ज्यादा ले गई हैं,
जो मैंने उन रातों में भुगता है-
हर रोज एक आशाहीन चाह।

वैसे ही आओ
जैसे हजारों बार आये हो
एक खुशनुमा सुनहरे मौसम की तरह
और मुस्कराओ उस नई दुनियां के लिए
जो दूसरों के लिए भी उतनी भली है
जितनी मेरे लिये।

या आओ
कुछ,
कभी भी हकीकत ना होने वाली
बातों की तरह
अभी आओ, और सपनों को सच कर जाओ
मेरे होने का हिस्सा हो जाओ
मेरा माथा चूमो
और कहो
‘‘ओ मेरे प्रिय दुखी क्यों हो?’’

मेरे सपनों में
मेरे करीब आओ
और देखना
मैं फिर एक दिन
अच्छा हो जाऊंगा।



मूल कवि‍ता
Longing 
by
Matthew Arnold

Come to me in my dreams, and then
By day I shall be well again!
For so the night will more than pay
The hopeless longing of the day.

Come, as thou cam'st a thousand times,
A messenger from radiant climes,
And smile on thy new world, and be
As kind to others as to me!

Or, as thou never cam'st in sooth,
Come now, and let me dream it truth,
And part my hair, and kiss my brow,
And say, My love why sufferest thou?

Come to me in my dreams, and then
By day I shall be well again!
For so the night will more than pay
The hopeless longing of the day.

11 comments:

संजय भास्कर said...

अपने भावो को बहुत सुंदरता से तराश कर अमूल्य रचना का रूप दिया है.

वन्दना said...

वाह …………बहुत सुन्दर रचना …………पढवाने क ेलिये आभार्।

नीरज गोस्वामी said...

वाह...बेजोड़
नीरज

रश्मि प्रभा... said...

वैसे ही आओ
जैसे हजारों बार आये हो
एक खुशनुमा सुनहरे मौसम की तरह
और मुस्कराओ उस नई दुनियां के लिए
जो दूसरों के लिए भी उतनी भली है
जितनी मेरे लिये।
bahut sahi

ehsas said...

उम्दा प्रस्तुति। पढ़वाने के लिए धन्यवाद।

वाणी गीत said...

Come, my friends. it is not too late to seek a newer world....

सुन्दर !

udaya veer singh said...

aabhar hai aapka ,sargarbhit anuvad ke liye ,kritagya hain us rachanakar ke liye,jisane srijit kiya itana utkrisht
kavy .shukriya ji .

Amrita Tanmay said...

चित्ताकर्षक लगी ..आपने अनुवाद किया है?अच्छा किया है...

pragya said...

एक आह है इस कविता में...एक तरस है..

अनामिका की सदायें ...... said...

bahut khoobsurat.

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बेमिसाल रचना बेहतरीन अनुवाद ... पढवाने का आभार

Post a Comment