Wednesday, 4 April 2018

एक खूब सूरत पंजाबी रूहानी सा लोकगीत - मिट्टी दा बावा

Mitti Da Bawa मिट्टी दा बावा 

.....
कित्ते ते लावां टालियां
वे पत्ता वालियां
वे मेरा पतला माही
कित्ते ते लावां शहतूत
वे तेनु समझ ना आवे

मिट्टी दा बावा मैं बनो णिं आं
चग्गा पौ णिं आं
वे उत्ते देनी आं खेसी
ना रो मिट्टी दे बा वेया
वे तेरा प्यो परदेसी

मिट्टी दा बावा नई बोल दा
वे नइ यो चालदा
वे नइ यो दें दा हुं गारा
ना रो मिट्टी दे या बा वे या
वे तेरा प्यो बणजारा

मेरी जे हिं या लक्ख गोरियां
वे तन्नी डोरियॉं
वे गोदी बाल हिंडोले
हॅंस हॅंस दें दियां लो रि यां
वे मेरे लड़न सपोले
...
दीवा बले सारी रात पंजाबी फिल्म 2011

No comments:

Post a comment