Friday, 9 April 2010

असल मुददा



जमाने का अजब ढब हो गया है,
मुददे उठाना ही मुददा हो गया है
कि‍से खबर असल मुददा क्‍या है?
असल मुददा तो कहीं खो गया है